Pati Ko Vash Me Karne Ka Gharelu Upay

पति को वश में करने के लिए ,” यह प्रयोग शुक्ल में पक्ष करना चाहिए ! एक पान का पत्ता लें ! उस पर चंदन और केसर का पाऊडर मिला कर रखें ! फिर दुर्गा माता जी की फोटो के सामने बैठ कर दुर्गा स्तुति में से चँडी स्त्रोत का पाठ 43 दिन तक करें ! पाठ करने के बाद चंदन और केसर जो पान के पत्ते पर रखा था, का तिलक अपने माथे पर लगायें ! और फिर तिलक लगा कर पति के सामने जांय ! यदि पति वहां पर न हों तो उनकी फोटो के सामने जांय ! पान का पत्ता रोज़ नया लें जो कि साबुत हो कहीं से कटा फटा न हो ! रोज़ प्रयोग किए गए पान के पत्ते को अलग किसी स्थान पर रखें ! 43 दिन के बाद उन पान के पत्तों को जल प्रवाह कर दें ! शीघ्र समस्या का समाधान होगा !

Pati Ko Vash Me Karne Ka Gharelu Upay

पहला वशीकरण मंत्र हिन्दी मे-

अगर आप मन ही मन किसी को पसंद करते है या अपने  दिल की  बात किसी को बता नही सकते है तो आप नीचे दिए हुए मंतर को एक बार ज़रूर इस्तेमाल करे.

 

  • “”ॐ कलीम कृष्णाय नमः””

is mant ko har roj  rat ko 600 bole , is mantar ko keval sukrvar ko bolo.
वशीकरण विधि अपने प्यार को पाने के लिए- 

 

(a) इसके  लिए  7 पान  के  पते  चाहिए ||

(b) थोड़ा  सा  सिन्दूर  चाहिए ||

(c) थोड़ा  सा  पानी चाहिए ||

(d) लगातार  इस  मंत्र  को  7 दिन  तक  इन  सातों पान के  पतों के  ऊपर पढ़े ||

(e) अगले  शुक्रवार  को  थोड़े से  सिन्दूर  को  थोड़े  से  पानी   में  मिला  ले  ||

(f) फिर  उस  सिन्दूर  से  उस  इंसान  का  नाम एक पान के पत्ते  ( जिस  को  आपने  वश  में  करना  है  ) लिखें  ||

(g) और  उस  पान  के  पते  को  अपने  सिर के  ऊपर  से  घड़ी  की  दिशा  में  21 बार  घुमा  के  कहीं  दूर  फैंक  दे  ||

(h) लगातार  7 दिन  तक  यह  प्रयोग  करें ||

(i) और  आठवे  दिन उस  इंसान  के  सामने  जाएँ  जिसको  आपने  वश  में  करना  है आपको  मन  माँफिक  रिजल्ट  मिलेगा ||

 

सावधानियॉ :-

Pati Ko Vash Me Karne Ka Gharelu Upay

(1) इसे  सिर्फ  शुक्रवार  को  ही  शुरू  करें ||

(2) ऊपर  दिए  गए  मंत्र  को  पहले  7 दिन  तक  लगातार  सातों  पान के  पतों  पर  ५५१  बार  पढ़े ||

(3) इस  दरमियान  मास  , मछली , मदिरा  का  सेवन  ना करें ||

(4) पराई स्त्री  या  पुरष  के  साथ  गलत  संबंध  ना करें ||

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *